गणेश चतुर्थी व्रत कथा

गणेश चतुर्थी व्रत कथा

श्री गणेश चतुर्थी व्रत कथा और पूजन विधि आज गणपति का जन्मदिन है. विघ्नहर्ता और मंगलमूर्ति श्रीगणेश का दिन. आज से लेकर अगले द्स दिनों तक देश गणेश जी के रंग में डुबा रहेगा. आज गणेश चतुर्थी के दिन व्रत करने का बहुत महत्व है. गणेश चतुर्थी व्रत विधि भाद्रपद माह की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी गणेश चतुर्थी के नाम से प्रसिद्ध है,इस प्रात:काल स्नानादि से निवृत होकर सोना तांबा चांदी मिट्टी या गोबर से गणेश की मूर्ति बनाकर उसकी…

Read More Read More

तीज व्रत कथा

तीज व्रत कथा

कथा भगवान शिव ने कहा “हे गौरी! पर्वतराज हिमालय पर गंगा के तट पर तुमने अपनी बाल्यावस्था में अधोमुखी होकर घोर तप किया था। इस अवधि में तुमने अन्न ना खाकर केवल हवा का ही सेवन के साथ तुमने सूखे पत्ते चबाकर काटी थी। माघ की शीतलता में तुमने निरंतर जल में प्रवेश कर तप किया था। वैशाख की जला देने वाली गर्मी में पंचाग्नी से शरीर को तपाया। श्रावण की मुसलाधार वर्षा में खुले आसमान के नीचे बिना अन्न…

Read More Read More

अन्नपुर्णा देवी व्रत कथा

अन्नपुर्णा देवी व्रत कथा

अन्नपुर्णा देवी की प्रार्थना सिद्ध सदन सुन्दर बदन, गणनायक महाराज दास आपका हूँ सदा कीजै जन के काज || जय शिव शंकर गंगाधर, जय जय उमा भवानी सिया राम कीजै कृपा हरी राधा कल्याणी || जय सरस्वती जय लक्ष्मी, जय जय गुरु दयाल देव विप्र और साधू जय भारत देश विशाल || चरण कमल गुरुजनों के, नमन करूँ मई शीश मो घर सुख संपत्ति भरो , दे कर शुभ आशीष || दोहा हाजिर है सब जगह पर, प्रेम रूप अवतार…

Read More Read More

देवउठनी एकादशी व्रत कथा

देवउठनी एकादशी व्रत कथा

देवउठनी एकादशी व्रत कथाकार्तिक माह की शुक्ल पक्ष की एकादशी को देवउठनी एकादशी कहा जाता है। इसे देवोत्थान एकादशी, देवउठनी ग्यारस, प्रबोधिनी एकादशी आदि नामों से भी जाना जाता है। एक राजा के राज्य में सभी लोग एकादशी का व्रत रखते थे। प्रजा तथा नौकर-चाकरों से लेकर पशुओं तक को एकादशी के दिन अन्न नहीं दिया जाता था।एक दिन किसी दूसरे राज्य का एक व्यक्ति राजा के पास आकर बोला- महाराज! कृपा करके मुझे नौकरी पर रख लें। तब राजा ने…

Read More Read More

महालक्ष्मी व्रत कथा

महालक्ष्मी व्रत कथा

श्री महालक्ष्मी व्रत विधिसबसे पहले प्रात:काल में स्नान आदि कार्यो से निवृ्त होकर, व्रत का संकल्प लिया जाता है. व्रत का संकल्प लेते समय निम्न मंत्र का उच्चारण किया जाता है. करिष्यSहं महालक्ष्मि व्रतमें त्वत्परायणा ।तदविध्नेन में यातु समप्तिं स्वत्प्रसादत: ।।अर्थात हे देवी, मैं आपकी सेवा में तत्पर होकर आपके इस महाव्रत का पालन करूंगा. आपकी कृ्पा से यह व्रत बिना विध्नों के पर्रिपूर्ण हों, ऎसी कृ्पा करें. यह कहकर अपने हाथ की कलाई में बना हुआ डोरा बांध लें, जिसमें 16…

Read More Read More

साई बाबा व्रत कथा

साई बाबा व्रत कथा

साई बाबा व्रत कथाएक शहर में कोकिला नाम की स्त्री और उसके पति महेशभाई रहते थे. दोनों का वैवाहिक जीवन सुखमय था. दोनों में आपस में स्नेह और प्रेम था. पर महेश भाई कभी कभार झगडा करने की आदत थी. परन्तु कोकिला अपने पति के क्रोध का बुरा न मानती थी. वह धार्मिक आस्था और विश्वास वाली महिला थी. उसके पति का काम-धंधा भी बहुत अच्छा नहीं था. इस कारण वह अपना अधिकतर समय अपने घर पर ही व्यतीत करता था….

Read More Read More

छठ व्रत कथा

छठ व्रत कथा

सूर्य षष्टी महात्मयभगवान सूर्य जिन्हें आदित्य भी कहा जाता है वास्तव एक मात्र प्रत्यक्ष देवता हैं. इनकी रोशनी से ही प्रकृति में जीवन चक्र चलता है. इनकी किरणों से ही धरती में प्राण का संचार होता है और फल, फूल, अनाज, अंड और शुक्र का निर्माण होता है. यही वर्षा का आकर्षण करते हैं और ऋतु चक्र को चलाते हैं. भगवान सूर्य की इस अपार कृपा के लिए श्रद्धा पूर्वक समर्पण और पूजा उनके प्रति कृतज्ञता को दर्शाता है. सूर्य षष्टी…

Read More Read More

महाशिवरात्रि की कथा

महाशिवरात्रि की कथा

महा शिवरात्रि व्रत विधिभगवान शिव की पूजा-वंदना करने के लिए प्रत्येक माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि (मासिक शिवरात्रि) को व्रत रखा जाता है। लेकिन सबसे बड़ी शिवरात्रि फाल्गुन मास की कृष्ण चतुर्दशी होती है। इसे महाशिवरात्रि भी कहा जाता है। वर्ष 2015 में महाशिवरात्रि का व्रत 17 फरवरी को रखा जाएगा।शिवरात्रि व्रत विधिगरुड़ पुराण के अनुसार शिवरात्रि से एक दिन पूर्व त्रयोदशी तिथि में शिव जी की पूजा करनी चाहिए और व्रत का संकल्प लेना चाहिए। इसके उपरांत…

Read More Read More

वट सावित्री व्रत कथा

वट सावित्री व्रत कथा

ऐसे करें वट सावित्री व्रत और पूजनसुहागन स्त्रियां वट सावित्री व्रत के दिन सोलह श्रृंगार करके सिंदूर, रोली, फूल, अक्षत, चना, फल और मिठाई से सावित्री, सत्यवान और यमराज की पूजा करें। यह व्रत करने वाली स्त्रियों को चाहिए कि वह वट के समीप जाकर जल का आचमन लेकर कहे-ज्येष्ठ मात्र कृष्ण पक्ष त्रयोदशी अमुक वार में मेरे पुत्र और पति की आरोग्यता के लिए एव जन्म-जन्मान्तर में भी मैं विधवा न होऊं इसलिए सावित्री का व्रत करती हूं। वट के मूल…

Read More Read More

Hanuman ki katha – मंगलवार व्रत की कथा

Hanuman ki katha – मंगलवार व्रत की कथा

भारत में हनुमान जी को अजेय माना जाता है. भारत में हनुमान जी को अजेय माना जाता है. मंगलवार व्रत की कथा (Hanuman ji ki katha) हनुमान जी को प्रसन्न करने के लिए की जाती है हनुमान जी अष्टचिरंजीवियों में से एक हैं. कलयुग में हनुमान जी ही एक मात्र ऐसे देवता हैं जो अपने भक्तो पर शीघ्र कृपा करके उनके कष्टों का निवारण करते हैं. मंगलवार भगवान हनुमान का दिन है. इस दिन व्रत रखने का अपना ही एक…

Read More Read More